बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2020 को लेकर सभी औपचारिकताए पूरी,कल होगी परीक्षा

करोना काल मे बिहार बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2020 कल होगी परीक्षा इससे सम्बन्धित सभी औपचारिकताए पूरी कर ली गई है|

सम्बन्धित तस्वीर


बिहार में दस शहरों के 278 परीक्षा केंद्रों पर मंगलवार को आयोजित होने वाली बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2०2० को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी है। राज्य नोडल पदाधिकारी प्रो. अजीत कुमार सिंह ने रविवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि राज्य के पटना, गया, भागलपुर, मुजफ्फरपुर, आरा, छपरा, दरभंगा, मधेपुरा, मुंगेर, एवं पूर्णिया समेत 10 शहरों में स्थित 278 परीक्षा केंद्रों पर 22 सितंबर को संयुक्त प्रवेश परीक्षा होगी। पटना में 84, गया में 19, भागलपुर में 26, मुजफ्फरपुर में 3०, आरा में 17, छपरा में 10, दरभंगा में 36, मधेपुरा में 24, मुंगेर में 10, पूर्णिया में 22 परीक्षा केन्द्र बनाए गये हैं। इन केंद्रों पर एक लाख  22 हजार 331 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होंगे।

 
सिंह ने बताया कि कोविड-19 से सुरक्षा के आलोक में परीक्षा संचालन के लिए बने  मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन करते हुए यह प्रवेश परीक्षा ली जा रही है। परीक्षा केंद्रों को सैनिटाइज कराया जा रहा है। परीक्षा के निबार्ध एवं शुचिता पूर्ण संचालन को सुनिश्चित कराने के लिए संबंधित जिलाधिकारियों के द्वारा प्रत्येक केंद्र पर पुलिस बल के साथ दंडाधिकारी एवं पर्यवेक्षक की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसके साथ ही राज्य नोडल पदाधिकारी स्तर से संबंधित सभी शहरों में केन्द्रीय समन्वयक सह पर्यवेक्षक की प्रतिनियुक्ति की गई है जो जिलाधिकारी, सहभागी विश्वविद्यालय के नोडल पदाधिकारी एवं राज्य नोडल पदाधिकारी के बीच समन्वय स्थापित करने के लिए परीक्षा का संचालन निर्धारित  योजना के अनुरूप सुनिश्चित करेंगे। नोडल पदाधिकारी ने बताया कि परीक्षा केन्द्रों के प्रवेश द्वार पर परीक्षार्थियों, पदाधिकारियों, कर्मचारियों एवं पुलिस बल की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। मानक तापक्रम से जिन परीक्षार्थियों के शरीर का तापक्रम अधिक होगा उनकी परीक्षा अलग से ली जाएगी। सभी परीक्षार्थियों को सैनिटाइजर के साथ ही एवं मास्क पहन कर आना अनिवार्य है। वीक्षकों एवं कर्मचारियों को भी मास्क एवं ग्लव्स पहनकर अपने दायित्वों का निर्वहन करना होगा। उल्लेखनीय है कि बीएड प्रवेश परीक्षा के लिए राज्यपाल सह कुलाधिपति ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय को नोडल विश्वविद्यालय बनाया है और विश्वविद्यालय के पूर्व कुलसचिव प्रो. सिंह को नोडल अधिकारी बनाया है।

Post a comment

0 Comments